कल जल परिवहन से त्रिपुरा रिसीव करेगा पहला बांग्लादेशी कंसाइनमेंट

0
308
File Photo

त्रिपुराः भारत और पड़ोसी मुल्क बंगलादेश के बीच अब जल मार्ग से भी परिवहन की शुरूआत हो गयी है। अब त्रिपुरा के सोनामुरा और बांग्लादेश के दाउदकंदी के बीच पानी के जहाज चलने वाले हैं। बता दें 3 सिंतबर को ही बांग्लादेश से त्रिपुरा के लिए कंसाइनमेंट लेकर जहाज रवाना हो गया, जो 5 सितंबर कल त्रिपुरा पहुंचेगा।

जल मार्ग द्वारा परिवहन शुरू होने से पूर्वोतर के राज्यों को इसका फायदा मिलेगा। इससे भारत और बंगलादेश के बीच कारोबार को बढ़ावा मिलेगा। भारत और बांग्लादेश के बीच नए जल मार्ग ऑपरेशनल होने से त्रिपुरा के सोनामुरा और बांग्लादेश के दाउदकंदी के बीच पानी के जहाज चलेंगे। इससे दोनों देशों के बीच कारोबार और भी ज्यादा बढ़ेगा।

भारत और बांग्लादेश के उत्कृष्ट द्विपक्षीय संबंधों, रेलवे और अंर्तदेशीय जलमार्गों में दोनों देशों द्वारा हाल ही में की गई कनेक्टिविटी की पहल से व्यापार की लागत को कम करने में मदद मिलेगी। प्राधिकरण ने इसी साल 20 मई को ही इसकी मंजूरी दी थी और कहा था कि भारत बांग्लादेश के बीच प्रोटोकॉल के तहत अंतर्देशीय जल परिवहन और व्यापार होगा।

दोनों देशों के पोत निर्धारित रूट से बंदरगाहों के बीच चलेंगे। इससे द्विपक्षीय व्यापार को बढ़ावा मिलेगा। इससे कारोबारियों को लाभ होगा और दोनों देशों के लोगों का आपस में भरोसा बढ़ेगा।

3 सिंतबर को बांग्लदेशी जहाज सीमेंट दाउदकंदी से निकला है जो 93 किलोमीटर लंबा रूट तय करके 5 सितंबर को सोनमुरा (त्रिपुरा) पहुंचेगा। त्रिपुरा सरकार ने जहाजरानी मंत्रालय की मदद से पहले ही एक अस्थायी बंदरगाह तैयार कर लिया है, जहां सामान की लोडिंग अनलोडिंग होगी।

ट्रायल रन के तहत इस जल मार्ग से 50 मीट्रिक टन सीमेंट ढाका से सोनामुरा पहुंचेगा। ये इस जल मार्ग से बांग्लादेश से त्रिपुरा तक पहुंचने वाला पहला कंसाइनमेंट होगा। जिसे प्राप्त करने के लिए त्रिपुरा के मुख्यमंत्री विप्लब देब और बांग्लादेश में भारत की हाईकमिश्नर रीवा गांगुली दास मौजूद रहेगीं।

विज्ञापन