बिहार में महसूस किये गये भूकंप के तेज झटके

0
784

पटनाः नेपाल की राजधानी काठमांडू में बुधवार की सुबह भूकंप के तेज झटके महसूस किये गये। भूकंप का केंद्र काठमांडू के पास 10 किलोमीटर नीचे था। साथ ही इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.0 मापी गई। सुबह 5 बजकर 19 मिनट पर आये इस भूकंप का असर बिहार में भी देखने को मिला।

बिहार के पूर्वी और पश्चिमी चंपारण, सारण, सिवान, गोपालगंज, सीतामढ़ी, शिवहर, समस्‍तीपुर, सुपौल, सहरसा, मधेपुरा, दरभंगा, मुजफ्फरपुर व पटना आदि दर्जनों जिलों में महसूस किए गए। नेपाल में इस भूकंप से दहशत का माहौल हो गया। लोग घरों से भागकर सड़कों पर निकल गए।

लेकिन अभी तक जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र ने अपने एक ट्वीट में कहा, पाल के सिंधुपलचौक जिले में आज सुबह 5:19 बजे 6.0 तीव्रता का भूंकप आया। नेपाल के पूर्वी हिस्से में भूकंप के झटके महसूस किए गए। सिंधुपलचौक के एसपी राजन अधिकारी ने बताया, हम पहले से जिले के सभी वॉर्ड के संपर्क में हैं। कही से किसी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं है।

जैसा कि मालूम हो साल 2015 में भी नेपाल में भयानक भूकंप आया था। रिक्‍टर स्‍केल पर 9.3 तीव्रता वाले उस भूकंप का केंद्र काठमांडू के नजदीक पोखरा में था जिसका असर नेपाल से सटे बिहार के जिलों में भी देखने को मिला था। साल 2015 में एक बार नहीं बल्कि कितने बार भूकंप के झटके महसूस किये गये थे। इस भूकंप ने लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया था।

डर से सहमे लोग अपने घरों के अंदर जाने से भी कतरा रहे थे। बहुत से लोग बेघर हो गये थे। अनुमानत इस भूकंप में नौ हजार से भी ज्यादा लोगों की जान चली गई थी। लिहाजा ऐसे में इस साल भूकंप का फिर से आना वहां के लोगों में दहशत का माहौल तो पैदा करेगा ही।

विज्ञापन