अब्बास सिद्दीकी ने कहा- हम चूड़ी नहीं पहने हैं, ‘BJP 10 मारेगी तो हम 20 मारेंगे’

0
1579
फाइल फोटोः अब्बास सिद्दीकी

मालदाः हाल ही में अपनी नई पार्टी का ऐलान करने वाले पीरजादा अब्बास सिद्दीकी ने जहर उगलना शुरू कर दिया है। बीते गुरुवार को ही पीरजादा अब्बास सिद्दीकी ने ‘इंडियन सेक्युलर फ्रंट’ नाम की पार्टी का ऐलान किया।

पार्टी के ऐलान के बाद राजनीति में एंट्री करने एक सप्ताह के अंदर ही ‘इंडियन सेक्युलर फ्रंट’ के प्रमुख अब्बास सिद्दीकी के बोल बिगड़ गए। मालदा के एक धार्मिक जलसा से अब्बास सिद्दीकी ने बीजेपी पर निशाना साधा। यहां मंच से अब्बास सिद्दीकी ने कहा कि हम हाथ में चूड़ी नहीं पहने हैं। ‘BJP 10 मारेगी तो हम 20 मारेंगे’।

गौरतलब हो कि राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियां जमकर हो रही हैं। पश्चिम बंगाल के सियासी रण में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन यानी की एआईएमआईएम की एंट्री का ऐलान असदुद्दीन ओवैसी पहले ही कर चुके हैं। इसी बीच बीते गुरुवार को हुगली के फुरफुरा शरीफ के पीरजादा अब्बास सिद्दीकी ने भी अपनी नई पार्टी की घोषणा की।

अब्बास सिद्दीकी राज्य की राजनीति में नया नाम है। अब्बास की नई पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव में अल्पसंख्यक वोट बैंक में बड़ी सेंध लगा सकती है। राज्य की राजनीति में पहले से ही कई अटकलें हैं। एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी पहले ही राज्य का दौरा कर चुके हैं और अब्बास सिद्दीकी से मुलाकात भी कर चुके हैं। एआईएमआईएम आगामी विधानसभा चुनाव अब्बास सिद्दीकी की पार्टी के साथ लड़ेगी।

अब्बास का मिशन उत्तर और दक्षिण 24 परगना, हावड़ा, हुगली और नदिया है। फुरफुरा शरीफ के पीरजादा अब्बास सिद्दीकी का बंगाली युवा मुस्लिम समुदाय पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव है। अब्बास सिद्दीकी हावड़ा, हुगली, दक्षिण 24 परगना समेत अन्य मुस्लिम बहुल इलाकों में कई बार धार्मिक कार्यक्रम किए हैं।

बता दें कि राज्य में मुस्लिम आबादी का लगभग 30 से 32 प्रतिशत वोट है। किसी भी पार्टी के लिए इतने वोट महत्वपूर्ण हैं। इतने लंबे समय तक, बंगाल में यह अल्पसंख्यक वोट तृणमूल के खाते में गया है। लेकिन इस बार के चुनाव में अब्बास सिद्दीकी और ओवैसी यह अल्पसंख्यक वोट काट सकते हैं। अगर ऐसा होता है तो इसका पूरा फायदा बीजेपी को होने वाला है।

विज्ञापन