चर्चाओं के व्यावहारिक अमल की प्रणाली विकसित करनी चाहिए:डॉ. हर्षवर्धन

0
92

नई दिल्ली: स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने औषधि उत्पादों तक पहुंच पर आधारित विश्व सम्मेलन के मौके पर कहा कि हमें बड़े पैमाने पर जन कल्याण के लिए ज्ञान को साझा करने में इस विश्व सम्मेलन का इस्तेमाल करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें चर्चाओं को व्यावहारिकता में बदलने की एक सशक्त प्रणाली विकसित करनी चाहिए। इस अवसर पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे, बांग्लादेश सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जाहिद मलिक, भूटान की स्वास्थ्य मंत्री ल्योनपो डिचेन वांग्मो, नेपाल के उप प्रधानमंत्री और स्वास्थ्य एवं जनसंख्या मंत्री श्री उपेन्द्र यादव तथा नीति आयोग के सदस्य डॉ. वी.के. पॉल आदि भी उपस्थित थे।

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी जी के सशक्त नेतृत्व में सभी नीतिगत निर्णयों एवं कार्यक्रमों में स्वास्थ्य के मुद्दे को प्रमुखता दी गई है। उन्होंने कहा कि समतामूलक, किफायती स्वास्थ्य सुविधाओं तक आसान पहुंच कायम करना हमारे सभी प्रयासों के केन्द्र में है।

व्यापक स्वास्थ्य कवरेज के तहत विश्व भर में चिकित्सा उत्पादों के बारे में अनुभवों को साझा करने तथा पहुंच बढ़ाने में इस सम्मेलन को एक बहुमूल्य मंच बताते हुए, डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि इस सम्‍मेलन से किफायती एवं गुणवत्‍तापूर्ण चिकित्सा उत्पादों के बारे में अभिनव चिंतन का मार्ग प्रशस्त होगा।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉ. टैड्रोस ऐडरेनॉम ग़ैबरेयेसस ने वीडियो संदेश के माध्यम से सम्मेलन में हिस्सा लिया। उन्होंने विश्व भर के लोगों के लिए चिकित्सा उत्पादों की किफायती उपलब्धता के बारे में विश्व स्वास्थ्य संगठन की वचनबद्धता दोहरायी

विज्ञापन