राफेल की पहली महिला पायलट बनने जा रही हैं वाराणसी की शिवांगी सिंह

0
377

वाराणसीः बनारस की बेटी शिवांगी सिंह ने आज दुनिया को दिखा दिया है कि महिलाएं भी हर बड़े से बड़े काम को कर सकती हैं। सही मायने में कहा जायें तो शिवांगी सिंह महिला सशक्तिकरण का उदाहरण हैं। फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह दुनिया की सर्वोत्तम श्रेणी के युद्धक विमानों में एक राफेल की पहली महिला पायलट बनने जा रही हैं।

राफेल जैसे ही भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल मिग-21 बाइसन की जगह लेंगे, शिवांगी इस भूमिका में आ जाएंगी। फ्रांस से राफेल विमानों का बेड़ा भारत आने के बाद से ही चर्चा थी कि आखिर कौन फाइटर पायलट इसे उड़ाएगा। इसमें पुरुषों के साथ महिला पायलट भी होंगी या नहीं जैसी चर्चा हो रही थी।

अब इस चर्चा पर बनारस में पली बढ़ीं और बीएचयू से एनसीसी करने वाली शिवांगी ने विराम लगा दिया है। शिवांगी भारतीय वायु सेना की राफेल स्क्वाड्रन की पहली महिला फाइटर पायलट बनने का सौभाग्‍य हासिल किया है। बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से अपनी पढ़ाई पूरी करने वाली फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह महिला पायलटों के दूसरे बैच की हिस्सा हैं जिनकी कमिशनिंग 2017 में हुई।

भारतीय वायुसेना के पास फाइटर प्लेन उड़ाने वाली 10 महिला पायलट हैं जो सुपरसोनिक जेट्स उड़ाने की कठिन ट्रेनिंग से गुजरी हैं। फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह पहले राजस्थान के फॉरवर्ड फाइटर बेस पर तैनात थीं जहां उन्होंने विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान के साथ उड़ान भरी थी।

वाराणसी जिले की मूल निवासी फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह अभी प्रशिक्षण के दौर में हैं। जल्द ही शिवांगी अंबाला में 17 स्क्वाड्रन गोल्डन एरो में शामिल होंगी। शिवांगी के पिता ने अपनी बेटी शिवांगी की इस उपलब्धि पर गर्व करते हुए कहा, उसका बचपन से ही सपना था कि वह विमान उड़ाये। हम लोगों को गर्व है कि हमारी बेटी बनारस के साथ ही देश का नाम रोशन करेगी।

विज्ञापन