पीएम मोदी आज करेंगे बेंगलुरु प्रौद्योगिकी शिखर सम्मेलन का उद्घाटन

0
597

नई दिल्ली: पीएम नरेन्द्र मोदी आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये तीन दिवसीय बेंगलुरु प्रौद्योगिकी शिखर सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे। ये कार्यक्रम 19 नवंबर से लेकर 21 नवंबर तक चलेगा। इस सम्मेलन का आयोजन कर्नाटक सरकार, बायोटेक्नोलॉजी एंड स्टार्टअप, सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क्स ऑफ इंडिया (एसटीपीआई) और एमएम एक्टिविटी-टेक कम्युनिकेशंस ने साथ मिलकर किया है।

इस साल सम्मेलन का मुख्य विषय ‘नेक्स्ट इज नाओ’ है। इसके तहत कोविड 19 महामारी के बाद के विश्व में उभरती मुख्य चुनौतियां और सूचना प्रौद्योगिकी और इलेक्ट्रॉनिक्स और बायोटेक्नोलॉजी के क्षेत्र में प्रमुख प्रौद्योगिकी और नई तकनीकों के प्रभाव पर मुख्य रूप से चर्चा होगी। वैश्विक महामारी कोरोना के कारण Tech Summit 2020 को भी वर्चुअली आयोजित किया जाएगा।

इसमें हिस्सा लेने वाले सभी लोग वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इसमें जुड़ेगे और अपने विचार रखेंगे। बंगलूरू प्रौद्योगिकी शिखर सम्मेलन 2020 में ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन, स्विस परिसंघ के वाइस प्रेसिडेंट गाय पार्मेलिन और कई अन्य प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय हस्तियां हिस्सा लेंगी। इसके अलावा भारत और दुनियाभर के अनुभवी नेता, उद्योग प्रमुख, टेक्नोक्रेट, शोधकर्ता, इनोवेटर, निवेशक, नीति निर्माता और शिक्षक भी इस सम्मेलन में भाग लेंगे।

इस आयोजन के 23वें संस्करण में करीब 25 देश भाग ले रहे हैं। कार्यक्रम में 200 से ज्यादा भारतीय कंपनियां भाग ले रही हैं, जिन्होंने अपनी वर्चुअल प्रदर्शनी लगाई है। सम्मेलन में 4,000 से अधिक प्रतिनिधि, 270 वक्ता हिस्सा लेंगे। सम्मेलन के दौरान 75 परिचर्चा सत्रों का आयोजन होगा। प्रतिदिन इसमें 50,000 से अधिक भागीदार भाग लेंगे। सी.एन।

अश्वथ नारायण ने कहा, “मोदी 22 साल पहले नवंबर, 1998 में अटल बिहारी वाजपेयी के बाद शहर में इस कार्यक्रम का अनावरण करने वाले दूसरे प्रधानमंत्री होंगे। नारायण, जो शहर से सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विधायक हैं, उनके पास आईटी, बीटी और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी जैसे विभागों की जिम्मेदारी भी है। नारायण ने कहा, प्रौद्योगिकी और नवाचार एक वरदान है और यह महामारी के कारण होने वाली कठिनाइयों को कम करने का एक समाधान भी है, जिसका हम सभी सामना कर रहे हैं।

विज्ञापन