गलवान को एक सालः शहीद वीर जवानों को दी गई श्रद्धांजलि

0
7904
File Photo

नई दिल्ली: पूर्वी लद्दाख गलवान घाटी में चीन के साथ हुई हिंसक झड़प को एक साल पूरे हो गये हैं। इस झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गये थे। भारतीय सेना का ये जवान भले ही शहीद हो गये हों लेकिन उनकी शहादत को हमेशा याद किया जायेगा। आज भी वो अमर हैं।

इस मौके पर भारतीय सेना और अन्य लोगों की ओर से वीर जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। सेना की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि देश की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करने में शहीद हुए बहादुर जवानों के प्रति सेना की सभी रैंक श्रद्धांजलि देती है।

सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे और सेना के सभी रैंक की तरफ से देश की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करते हुए गलवान घाटी में सर्वोच्च बलिदान देने वाले बहादुरों को श्रद्धांजलि दी गई। शहीद हुए बहादुर जवानों की वीरता राष्ट्र की स्मृति में सदैव अंकित रहेगी।

एक सैन्य अधिकारी ने कहा कि ”सैन्य रूप से हम इस बार बेहतर तरीके से तैयार हैं। गलवान घाटी की झड़प के बाद हमें उत्तरी सीमा पर राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर अपने दृष्टिकोण को प्राथमिकता में रखने का मौका मिला।”

आपको बता दें कि बीते साल 15 जून 2020 में को लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीन की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इस खूनी संघर्ष में 20 भारतीय सैनिक मारे गये थे। इसी साल फरवरी में चीन ने ऑफिशियल तौर पर स्वीकार किया कि भारतीय सैन्यकर्मियों के साथ झड़प में 5 चीनी सैन्य अधिकारी और जवान मारे गए थे।

लेकिन माना जा रहा है कि चीनी पक्ष में मृतकों की संख्या इससे ज्यादा थी। जारी कई खबरों से भी सामने आया कि चीनी पक्ष को इस झड़प में काफी नुकसान हुआ। पीएम नरेंद्र मोदी ने भी कहा था कि हमारे जवान मारते-मारते मरे हैं।

विज्ञापन