न्यूटाउनः रूफटाॅप पर बना फुटबाॅल मैदान लोगों के लिए बना मुसीबत का सबब

0
742
रूफटाॅप पर बना फुटबाॅल मैदान

कोलकाताः राज्यभर में कोरोना का कहर जारी है। कोरोना के खतरे को देखते हुए कहीं भी भीड़ इकठ्ठा न हो इसके लिए प्रशासन ने सभी प्रकार के खेलकूद की गतिविधियों पर विराम लगाया है। इसी बीच महानगर के न्यूटाउन से एक ऐसी खबर सामने आई है जहां दिन-रात जब-तब फुटबाॅल मैच खेला जा रहा है वो भी एक इमारत के रूफटाॅप पर। इमारत के रूफटाॅप पर खेला जा रहा फुटबाॅल मैच आवासीय इमारत में रहने वाले लोगों के लिए मुसीबत का सबब बन गया है।

दरअसल यह सब हो रहा है न्यूटाउन के रोजडेल एनआरआई हाउसिंग काम्प्लेक्स में। बता दें कि न्यूटाउन के इस आवास के साथ ही एक चमचमता शॉपिंग मॉल भी जुड़ा हुआ है। यहां के निवासियों को ध्यान में रखते हुए उक्त शॉपिंग मॉल को बनाया गया था। इसी शॉपिंग मॉल के रूफटाॅप पर एक फुटबाॅल मैदान बनाया गया है।

आवासीय इमारत में रहने वाले लोगों की नजर में अक्सर पड़ता है कि यहां दिन-रात जब-तब रूफटाॅप पर बने फुटबाॅल मैदान में खेल चलते रहता है। इतना ही नहीं इस कोरोना काल में उक्त फुटबाॅल मैदान में नियमित रूप से अभ्यास चल रहा है। ऐसे में अब स्थानीय लोगों में असंतोष फैल गया है। रोजडेल गार्डन अपार्टमेंट ओनर्स एसोसिएशन का आरोप है कि उनकी अनुमति के बिना फुटबॉल मैदान बनाया गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार 14 साल पहले न्यूटाउन में यह बहुमंजिला इमारत मुख्य रूप से हिडको की भूमि पर प्रवासियों के लिए बनाई गई थी। केवल आवास के लिए इमारत को बनाया गया था। श्राची ग्रुप और हिडको के संयुक्त रूप से 614 रेसिडेंसियल यूनिट का निर्माण करने का फैसला हुआ था।

उक्त मैदान में बाइचुंग भूटिया भी खेल रहे हैं

ज्यादातर एनआरआई को बेचे जाने का फैसला हुआ था। इसके अलावा एक कामर्सियल स्पेश बनाने की भी योजना थी। आवास में रहने वाले लोगों का दावा है कि वह काॅमन एरिया यानी की 18 हजार स्क्वायर फिट का एक कामर्सियल स्पेश अलग से बेचा गया। यहीं शॉपिंग मॉल बनाया गया। किन्तु लोगों की समस्या कुछ और है।

दरअसल उक्त शॉपिंग मॉल के रूफटाॅप पर एक फुटबाॅल ग्राउंड बनाया गया है। आवासीय इमारत में रहने वाले लोगों का आरोप है कि फुटबॉल मैदान बनाने के लिए उनसे कोई अनुमति नहीं ली गई।

फुटबॉल मैदान बनने के बाद आवास के भीतर बाहरी लोगों का आना-जाना बढ़ गया है। लोगों का आरोप है कि शॉपिंग मॉल पर व्यावसायिक रूप से फुटबाॅल मैदान बनाया गया है। पैसा लेकर यहां खेल चल रहा है। नतीजतन, बाहरी लोगों का पूरे दिन आना जाना लगा रहता है। कोरोना के इस काल में इस प्रकार से बाहरी लोगों का आना-जाना रोजडेल निवासियों के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। दूसरी ओर, शॉपिंग मॉल के सामने अवैध पार्किंग को लेकर निवासियों में गुस्सा है। इसी बीच हिडको के चेयरमैन देवाशीष सेन के पास इस विषय में शिकायत की गई है।

फुटबॉल मैदान के विषय पर पूछे जाने पर हिडको के चेयरमैन देवाशीष सेन ने कोलकाता 24×7 को बताया कि शुरू में खेलने की अनुमति दी गई थी, लेकिन बाद में निवासियों की शिकायतों के बाद इसे रद्द कर दिया गया। शॉपिंग मॉल की छत पर फुटबॉल अभ्यास जारी रहने पर देवाशीष सेन ने निवासियों को पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करने की सलाह दी।

इस विषय में टेक्नो सिटी थाना के पुलिस अधिकारियों से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि हिडको की तरफ से उन्हें कोई अनुमति रद् करने का पत्र नहीं मिला। कोई पत्र आने से कानून के तहत कार्रवाई करने का उन्होंने आश्वासन दिया है। ऐसे में हिडको अधिकारियों और पुलिस के बीच समन्वय की कमी स्पष्ट रूप से दिख रही है।

पेशे से पायलट अभिनव साव पिछले तीन साल से अधिक समय से इस आवास में रहते हैं। साव ने फिलहाल यह आरोप लगाते हुए अदालत में याचिका दायर कर दी है। उनका दावा है कि यह फुटबॉल मैदान पूरी तरह से अवैध रूप से बनाया गया है। किसी की अनुमति नहीं ली गई। दिन-रात खेल चल रहा है। उनका आरोप है कि कई बार शिकायत के बावजूद कुछ नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि स्थिति इतनी बिगड़ गई कि रात में विमान चलाकर सुबह घर लौटने के बाद ठीक से सो भी नहीं सकते। क्योंकि अक्सर उस मैदान पर फुटबाॅल मैच होते रहता है।

इसके आलावा एक और निवासी अरविंद मजूमदार ने कहा कि इस प्रकार का एक खेल मैदान बनाने के पहले आवासीय लोगों की अनुमित लेना उचित था। उनका आरोप है कि खेल के चलते यहां रहने वाले लोगों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इतने लोगों के एक साथ आने से हमें आपत्ति है। आवास की तरफ से बार-बार शिकायत किए जाने के बावजूद कोई फायदा नहीं हुआ।

इसी बीच जब निवासियों के आरोपों के बारे में फुटबाॅल ग्राउंड के मालिक राजीव सिंह से पूछा गया तो वह इसे टाल गए। उनका कहना है कि कोलकाता24×7 और नेक्सवेल के सीईओ सोमेन सरकार रोजडेल आवासन के निवासी हैं। राजीव सिंह का दावा है कि सोमेन सरकार ही मात्र ऐसे हैं जिन्होंने आपत्ति जताई है। किन्तु राजीव सिंह का यह दावा पूरा गलत साबित हुआ है। रोजडेल आवासन के निवासियों ने सामूहिक रूप से कोलकाता24×7 को शिकायत की है। इन आरोपों के मिलने के बाद ही इस मामले की जांच शुरू कर खबर प्रकाशित की गई है।

ये रही निवासियों की शिकायत–

विज्ञापन