देशव्यापी हड़तालः बारासात में तनाव, प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज

0
593

कोलकाताः केन्द्र सरकार की नीतियों के खिलाफ वाम-कांग्रेस के श्रमिक संगठनों द्वारा आहूत देशव्यापी हड़ताल का असर बंगाल में भी सुबह से ही देखने को मिला है। उत्तर 24 परगना के बारासात में बड़ी संख्या में बंद समर्थकों ने सड़क जाम कर दिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार बारासात के हेलाबटतल्ला मोड़ पर हड़ताल को लेकर तनाव फैल गया।

प्रदर्शनकारियों ने एक मालवाहक गाड़ी को रोका, मौके पर पहुंची पुलिस तो स्थिति बिगड़ गई। जिसके बाद प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। यहां स्थिति बिगड़ते देख भारी संख्या में रैफ उतारी गई है।

उधर माकपा विधायक दल के नेता सुजन चक्रवर्ती ने जादवपुर 8बी बस स्टैंड से हड़ताल समर्थित रैली का नेतृत्व किया है। नागेरबाजार मोड़ पर बड़ी संख्या में वाम-कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एक साथ रैली में हिस्सा लिया। किसी भी तरह की अप्रिय घटना को टालने के लिए राज्यभर में पुलिस के जवानों की तैनाती की गई है। अकेले राजधानी कोलकाता में 5000 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

वहीं गुरुवार सुबह कमरहट्टी में सीपीएम नेता मानस मुखर्जी के नेतृत्व में वाम-कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने रैली निकाली। मानस मुखर्जी के नेतृत्व में रथतल्ला मोड़ पर प्रदर्शन किया गया। 15 मिनट के प्रदर्शन के बाद रैली दूसरी ओर निकली। उधर जादवपुर विश्वविद्यालय के सामने उत्तेजना फैल गई। जहां भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सुबह में प्रभावित सियालदह दक्षिण शाखा में ट्रेन सेवा स्वाभाविक हो गई है। वहीं वाम समर्थकों ने चांदनी चौक मेट्रो स्टेशन को बंद कराने की कोशिश की।

डायमंड हर्बर सियालदह समेत कई क्षेत्रों में रेल और सड़क मार्ग को बंद कर वाम-कांग्रेस समर्थक जमकर प्रदर्शन कर रहे हैं। सुबह सात बजे इच्छापुर में हड़ताल समर्थकों ने ट्रेन रोक दी। सुभाष ग्राम में सुबह सात बजे से विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। कॉलेज स्ट्रीट में भी सड़क जाम किया गया है।

गौरतलब हो कि केन्द्र की नीतियों के खिलाफ देश में किसान विरोधी कानूनों को निरस्त करने, 100 दिनों के बजाय 200 दिन रोजगार सहित अन्य मांगों को लेकर हड़ताल बुलाई गई है। वाम-कांग्रेस कार्यकर्ता भी हड़ताल में शामिल हुए हैं। उधर राज्य की सत्ताधारी तृणमूल ने हड़ताल का विरोध किया है। स्थिति को देखते हुए राज्य सरकार हड़ताल से निपटने के लिए पुलिस प्रशासन को कड़ाई से पेश आने को कहा है।

विज्ञापन