अयोध्या फैसले के पहले 20 लाख वॉट्सऐप ग्रुप और अकाउंट बंद

0
74

नई दिल्लीः आशा की जा रही है कि जल्द ही अयोध्या मामले पर फैसला आ सकता है। हालाँकि फैसले के पहले एक अोर जहाँ केंद्र सरकार ने सभी राज्यों से अलर्ट रहने काे कहा है वहीं दूसरी अोर सोशल मीडिया पर नफरत फैलाने वालों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाने के निर्देश दिए।

सरकार के आदेश पर वॉट्सऐप ने एक महीने में देशभर में 20 लाख ग्रुप और अकाउंट बंद कर दिए हैं। वॉट्सऐप के एक अधिकारी ने कहा कि अयोध्या फैसले के मद्देनजर अपने प्लेटफार्म का दुरुपयोग रोकने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस का इस्तेमाल किया जा रहा है। इससे संदिग्ध गतिविधियों वाले ग्रुपों और नंबरों की पहचान कर उन्हें ब्लॉक किया जा रहा है। फेसबुक के दिल्ली स्थित कार्यालय ने भी हिदायतों पर अमल की प्रतिबद्धता जताई है।

सरकार वॉट्सऐप, ट्विटर, फेसबुक के अलावा टेलीग्राम और सिग्नल जैसे नए एप पर भी नजर रखे हुए है। नफरत फैलाने वाले लोगों का बड़ा तबका ऐसे ही नए एप के जरिए गड़बड़ी कर रहा है। इनसे निपटने के लिए गृह मंत्रालय की आंतरिक सुरक्षा विंग ने व्यापक तैयारी की है। यह विंग राज्यों से तालमेल बना चुका है। बता दें कि फैसले के पहले केंद्र ने अर्द्धसैनिक बलों के 4 हजार जवान अयोध्या भेज दिये हैं।

इनके अलावा यूपी पुलिस की रिजर्व कंपनियाँ भी अयोध्या पहुँच गई हैं। बताया जा रहा है कि 15 तक फैसला आएगा जिसके लिए केंद्र सरकार की तैयारियाँ पूरी है। चीफ जस्टिस रंजन गाेगाेई की अध्यक्षता वाली 5 जजों की संविधान पीठ को 2.77 एकड़ की विवादित भूमि के मालिकाना हक पर फैसला सुनाना है।

विज्ञापन