कोरोना योद्धा की मौत होने पर परिवार के एक सदस्य को नौकरी देगी ममता सरकार

0
554
File Photo

कोलकाताः किसी कोरोना योद्धा की मौत होने पर राज्य सरकार परिवार के एक सदस्य को नौकरी देगी। डॉक्टर, नर्स, स्वास्थ्य कर्मचारी के अलावा ऐसे कई लोग हैं जो कोरोना के खिलाफ दिन-रात लड़ाई लड़ रहे हैं।

मरीजों को बचाने की कोशिश में कई की संक्रमण की चपेट में आने से मौत हो चुकी है। कई मामलों में उक्त योद्धा का परिवार उसपर ही निर्भर था। ऐसे परिवारों को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने एक मानवीय निर्णय लिया है।

दरअसल एक विज्ञप्ति जारी की गई है। उक्त विज्ञप्ति के मुताबिक राज्य सरकार के किसी भी कार्यालय में कार्यरत कर्मचारी जो कोरोना युद्ध में शामिल हैं उनकी मौत व आजीवन नुकसान होने की स्थिति में परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जाएगी। उस कार्यालय के तीसरे या चौथे वर्ग के किसी भी पद पर नौकरी दी जाएगी।

शैक्षिक योग्यता के आधार पर उच्च पदों पर नौकरी के अवसर भी मिल सकते हैं। वहीं यदि सीधे सरकारी कार्यालय में नौकरी संभव नहीं हुई तो उन्हें सरकार के अधीनस्थ किसी संस्था में रोजगार दिया जाएगा।

फाइल फोटो

उम्मीद है कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में काम करने वाले आंगनवाड़ी और नागरिक स्वयंसेवकों को भी यह सुविधा मिलेगी। उल्लेखनीय है कि इसके पहले महामारी के खिलाफ जंग में प्रथम पंक्ति के किसी योद्धा की कोरोना से मौत होने पर 10 लाख रुपये की वित्तीय सहायता देने की भी बात कही गई थी।

विज्ञापन