कुमारगंज गैंगरेपः पीड़िता के परिजनों से मिलेंगी लॉकेट चटर्जी

0
99
फाइल फोटो

कोलकाताः दक्षिणी दिनाजपुर जिले के कुमारगंज में गैंगरेप पीड़िता के परिजनों से भाजपा सांसद लॉकेट चटर्जी मुलाकात करेंगी। फूलबाड़ी इलाके में एक सभा को भी वह संबोधित करेंगी। पार्टी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार नाबालिगा के साथ हुई दरिंदगी के खिलाफ लगातार आंदोलन करने की योजना बनाई जा रही है।

इस बीच जिला अदालत के न्यायाधीश के समक्ष मृतका के परिवार के साथ घटना के पूर्व जिस दुकान पर पीडिता गई थी उस दुकान के मालिक कार्तिक देवनाथ का गुप्त बयान दर्ज कराया गया है।

उल्लेखनीय है कि नाबालिगा के साथ गैंगरेप कर दरिंदों ने उसकी हत्या कर दी। इतना ही नहीं साक्ष्‍यों को छिपाने के लिए उसके ऊपर पेट्रोल डालकर आग लगा दी। महबुबुर मियां, पंकज बर्मन और गौतम बर्मन नामक तीन दरिंदों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बीते रविवार को पीड़िता फूलबाड़ी बाजार के एक कपड़े की दुकान पर गई थी। दुकान के मालिक कार्तिक देवनाथ ने बताया कि रविवार करीब 2 बजे नाबालिगा दुकान के सामने खड़ी थी। कुछ ही देर में बाईक सवार 3 युवक वहां पहुंचे थें। उनमें से दो नाबालिगा को लेकर दुकान में पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने एक चादर और एक रुमाल खरीदा। नाबालिका चादर ओढ़ ली थी। उसने बताया कि वह लड़की को तो पहचान लिया था किन्तु युवक टोपी और मोफलर से मुंह ढके हुए थे। पीड़‍िता के भाई का कहना है कि उनकी बहन रविवार से लापता है। स्‍थानीय लोगों और पुलिस का कहना है कि लड़की का महबुबुर मियां से प्रेम संबंध था।

भाजपा जिला अध्यक्ष विनय बर्मन ने लॉकेट चटर्जी के कुमारगंज जाने को लेकर कहा कि लॉकेट चटर्जी आज कुमारगंज जा रही हैं। घटना के विरोध में धारावाहिक आंदोलन शुरू किया जायेगा।

उधर इस घटना को लेकर प्रदेश भाजपा प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट कर ममता बनर्जी पर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि दुष्कर्म राज्य। जिस राज्य की मुख्यमंत्री महिला हो, वहां महिला सुरक्षा का खास ध्यान रखा जाता है लेकिन पश्चिम बंगाल में मासूम बच्चियों के साथ दुष्कर्म की वारदात लगातार हो रही है। कानून व्यवस्था भंग है। बालूरघाट की बच्ची को न्याय कब मिलेगा।

बता दें कि लड़की का सोमवार को जला हुआ शव मिला था। उस समय कुत्‍ते लड़की के शव को खा रहे थे। शव को पोस्‍टमॉर्टम के लिए भेजा गया और पीड़‍िता के परिवार की पहचान की गई। प्रारंभिक जांच के बाद आरोपियों को पकड़ लिया गया और उन्‍हें बलूरघाट सत्र अदालत के समक्ष पेश किया गया। लड़की की हत्‍या के बाद स्‍थानीय लोगों ने जमकर प्रदर्शन किया था और दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की थी।

विज्ञापन