राष्ट्रपति को लिखे आजादी पत्र में पिता का सही से नाम भी नहीं लिख पाये लालू के लाल

0
584
फाइल फोटो

पटनाः आरजेडी सुप्रीमो और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव इन दिनों बीमार चल रहे हैं। ऐसे में उनके बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने पिता की आजादी के लिये देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नाम एक पत्र लिखा है, जो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

उन्होंने अपने पत्र में इतनी अशुद्धियां लिखी हैं कि कोई छोटी कक्षा में पढ़ने वाला बच्चा भी ऐसी गलतियां नहीं करता है। तेज प्रताप ने अपने पत्र में ‘आदरणीय श्री लालू प्रसाद जी की जगह ‘आपरणीय श्री लालु प्रसाद जी’ लिख दिया है। सिर्फ लालू ही नहीं, एक वाक्य में कई गलतियां लिखी हैं।

जैसे ‘मसीहा’ को ‘मसिहा’ लिख दिया है। इसी तरह ‘मूल्य’ को ‘मुल्य’, ‘गरीबों’ को ‘गरीवों’, और ‘वंचित’ को ‘बंचित’ लिखा है। इसके अलावा भी वाक्य में कई बड़ी गलतियां है। अर्थ का अनर्थ हो गया है। इस पोस्टकार्ड को भेजने के लिए पटना में तेजप्रताप ने खूब तामझाम किया था। मीडियावालों को बुलावा भेजा था।

मीडियावाले आए भी थे। तेजप्रताप के साथ कुछ युवा नेता भी बैठे थे। मीडिया को पोस्टकार्ड जारी करने के बाद तेजप्रताप ने इसे ट्विटर पर भी लगाया। मगर अब चर्चा पोस्टकार्ड की नहीं बल्कि उनके लिखे ‘लालु’ की हो रही है।

आपको बता दें कि बता दें कि उन्होंने इससे पहले सोशल मीडिया पर भी एक कैंपेन चलाया है जिसमें लालू को सजा माफी और उनकी रिहाई की मांग की गई है। एम्स में इलाजरत लालू प्रसाद की हालत चिंताजनक बतायी जा रही है। इसी को देखते हुए तेजप्रताप उनकी रिहाई की मांग कर रहे हैं। इस मुहिम की सराहना तो हो रही है, लेकिन उनकी गलतियों ने विपक्षी दलों को मजाक उड़ाने का एक और मौका दे दिया है।

बदा दें कि इस समय लालू यादव का दिल्ली के एम्स में इलाज के लिये भर्ती करवाया गया है। बताया जा रहा है कि लालू यादव की हालत अभी चिंताजनक बनी हुई है। लालू यादव की बिगड़ी तबीयत की वजह से उनकी रिहाई को लेकर मांगे उठ रही है।

विज्ञापन