इलाज में सहायता के लिए राज्य भर से मिले करीब 3000 आवेदनः राज्यपाल

0
64
file photo

कोलकाताः राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने गुरुवार को कहा कि स्वास्थ्य मामलों को लेकर राजनीति नहीं होनी चाहिए। पत्रकारों से बात करते हुए राज्यपाल धनखड़ ने दावा किया कि उन्हें इलाज में तत्काल सहायता के लिए राज्य भर से करीब 3000 आवेदन मिले हैं।

उन्होंने प्रश्न उठाया है कि केन्द्र सरकार की प्रमुख स्वास्थ्य योजना अायुष्मान भारत से राज्य के लोगों को अाखिर क्यों वंचित रखा जा रहा है।

धनखड़ ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि मुझे राज्यपाल बने हुए कुछ 3 महीने ही हुए हैं। इस दौरान मुझे पूरे राज्य से चिकित्सा सहायता के लिए करीब 3000 आवेदन मिले हैं।

उन्होंने कहा मैंने इन आवेदनों को देखा और पाया कि ये सभी केंद्र की आयुष्मान भारत योजना के लिए पात्र हैं। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य को राजनीति से ऊपर रखा जाना चाहिए। राज्यपाल का दिल बहुत बड़ा है लेकिन पास में 2 करोड़ रुपये का छोटा सा फंड है।

जबकि एक सांसद को 5 करोड़ रुपये मिलते हैं। ज्यादातर राज्यों में विधायकों के पास 2 से 4 करोड़ रुपये होते हैं। जबकि मुझे बताया गया है कि विधायकों का फंड 60 करोड़ रुपये का है। धनखड़ ने कहा कि आवेदकों की बढ़ती संख्या से राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं की स्थिति का पता चलता है। उन्होंने कहा कि अगर मुझे केवल 3 महीने में स्वास्थ्य संबंधी सहायता के लिए 3000 आवेदन मिले हैं, तो निश्चित रूप से ये राज्य के हालात को दर्शाता है।

उन्होंने कहा मुझे ये अजीब लगता है कि एक केंद्रीय योजना, जो इतनी बड़ी सुविधा उपलब्ध कराती है, जिसे दुनिया भर में मान्यता प्राप्त है, उसे लोगों के लाभ के लिए यहाँ क्यों नहीं अपनाया जा रहा है।

विज्ञापन