ईद की तैयारी शुरू, होने लगी सेवंई पकाने की तैयारी

0
75

कोलकाता: सब्र और इबादत से पुरनूर रमजान का महीना खत्म होने की दस्तक के साथ ही मीठी ईद पर तरह तरह के पकवान और खास तौर पर सेवंई बनाने की तैयारियां पूरे शबाब पर हैं और लोग कपड़ों से लेकर सेवंई, मेवे, खोया खरीदने के लिए बाजारों का रूख कर रहे हैं।

ईद उल फित्र के मौके पर हर घर में लजीज शीर खुरमा बनाने की रवायत है। लोग नाते रिश्तेदारों के यहां ईद की मुबारक देने जाते हैं तो अन्य तमाम पकवानों के साथ मीठी सेवंई परोसी जाती है। दूध को घंटों उबालकर मेवों के साथ बनाई जाने वाली यह सेवइयां ईद की मिठास को और भी बढ़ा देती हैं। कोलकाता के न्यू मार्केट में काफी भीड़ देखि जा रही है, शहर के हर एक मोल में खरीदारी जोरोशे चल रही है।

रोजेदारों को तो ईद के चांद का इंतजार होता ही है, रमजान की आखिरी रात डेयरी वाले भी आसमान की तरफ टकटकी लगाए रहते हैं क्योंकि चांद रात पर दूध की खपत लगभग दोगुनी हो जाती है और उन्हें इसके लिए पहले से तैयारी रखनी पड़ती है।

ईद में चंद दिन शेष हैं। ईदगाहों व मस्जिदों में ईद की नमाज की तैयारियां चल रही हैं। चिलचिलाती धूप व उमस के बाद भी बाजारों में रौनक बढ़ गई है। गुरुबार को ईद की खरीदारी के लिए शहर के बाजारों में लोगों की भारी भीड़ दिखी।

खरीदारी को सबसे ज्यादा भीड़ महिलाएं व युवाओं की देखी जा रही है। वहीं ईद के लिए सेवइयों की दुकानों पर काफी भीड़ दिख रही है। शहर के घोष मोड़, पुरानी चौक, जंगलिया मोड़, मौनिया चौक समेत अन्य चौक-चौराहों पर लोग देर शाम तक खरीदारी करते रहे।

गौरतलब है कि गुरूवार को चांद दिख जाता है तो शुक्रवार को ईद होगी। अगर ऐसा नहीं होता है फिर शनिवार को ईद का त्यौहार मनाया जाएगा। शुक्रवार को ईद नहीं होने पर शनिवार को तो ईद का त्यौहार मनाया जाना ही है। रमजान के महीने में 29 या 30 रोजे होते हैं। इनकी संख्या चांद दिखने के आधार पर तय होती है। अधिकतर लोगों के लिए गुरूवार को 29वां रोजा है। इसलिए आज रात चांद दिखने की संभावना है।