राज्य में अभी स्कूल खोलना संभव नहींः शिक्षा मंत्री

0
627
File Photo

कोलकाताः राज्य में कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। हर रोज कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ते जा रहा है। रोजाना हजारों की संख्या में कोरोना वायरस के नए मामले सामने आ रहे हैं। वहीं अब शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने स्पष्ट कर दिया है कि सितंबर तक राज्य में स्कूल खोलना संभव नहीं है। पार्थ चटर्जी के मुताबिक राज्य में कोरोना का कहर बढ़ रहा है। इस परिस्थिति में किसी भी तरह स्कूल खोलना संभव नहीं है।

मंगलवार को शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने बेहाला में मेधावी छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया। यहीं स्कूल खोलने को लेकर उन्होंने ये बातें कही। इस बार उच्च माध्यमिक में छात्रों ने काफी अच्छे अंक प्राप्त किए हैं। कोलकाता के कुछ कॉलेजों में 95 प्रतिशत अंक लाने के बाद भी प्रवेश नहीं मिल रहा है।

इस विषय में शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि जिन्हें 96-97 प्रतिशत अंक मिले हैं उन्हें पहले प्रवेश देना होगा। उच्च माध्यमिक उत्तीर्ण करने वाले सभी को प्रवेश मिलेगा। पहले, विभिन्न कॉलेजों में बुनियादी सुविधाओं का अभाव था लेकिन अभी नहीं। कॉलेजों की संख्या बढ़ी है। सीटों की संख्या बढ़ गई है। शिक्षकों की संख्या बढ़ी है। उन्होंने कहा यदि किसी विशेष कॉलेज में सीटें भर जाती हैं तो आपको दूसरे कॉलेज में दाखिला लेना होगा। शिक्षा मंत्री ने केंद्र सरकार की नई शिक्षा नीति पर भी आपत्ति जताई।

उल्लेखनीय है कि इसके पहले पश्चिम बंगाल में शिक्षण संस्थान 20 सितंबर तक बंद रखने का आदेश दिया गया था। कोरोना वायरस के संकट के कारण पिछले कई महीनों से स्कूल, कॉलेज और अन्य शिक्षण संस्थान बंद हैं। वहीं कोरोना का कहर अब भी थमने का नाम नहीं ले रहा है। कोरोना संकट को देखते हुए शिक्षामंत्री पार्थ ने फिलहाल स्पष्ट कर दिया है कि इस महीने तो स्कूल नहीं खुल रहे हैं।

गौरतलब हो कि कोरोना के चलते मार्च से ही देशभर के स्‍कूल बंद हैं। केंद्र सरकार ने अनलॉक-4 में नौवीं से 12वीं तक के स्‍कूल खोलने की छूट दे दी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर जारी कर रखा है। इसमें सोशल डिस्‍टेंसिंग और पर्सनल हायजीन के अलावा कई व्‍यवस्‍थागत नियम बनाए गए हैं, जिनका पालन अनिवार्य किया गया है।

फिलहाल स्‍कूलों के स्विमिंग पूल बंद रहेंगे और कोई असेंबली या स्‍पोर्ट्स ऐक्टिविटी भी नहीं होगी। क्‍लासेज में दो बच्‍चों के बीच 6 फीट की दूरी मेंटेन करनी होगी। हालांकि कई राज्य अभी स्कूल खोलने के पक्ष में नहीं है।

विज्ञापन