अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवलः 15 फिल्मों के बीच होगी कड़ी टक्कर

0
242

नई दिल्लीः 51वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल का आयोजन गोवा सरकार के द्वारा किया जायेगा। नौ दिनों तक चलने वाले इस फिल्म फेस्टिवल का आयोजन 16 जनवरी से लेकर 24 जनवरी तक किया जायेगा। जिन फिल्मों का प्रीमियर होगा उनमें वाइफ ऑफ ए स्पाई, मेहरुनिसा, अनॉथर राउंड,आदि शामिल हैं।

पांच सदस्यीय ज्यूरी में पाब्लो सेसर (अर्जेंटीना) को अध्यक्ष बनाया गया है जबकि श्रीलंका के प्रसन्ना विथानेज, अबू बकर शॉकी (ऑस्ट्रिया), प्रियदर्शन (भारत) और रूबैत हुसैन (बांग्लादेश) सदस्य होंगे। इस फ़ेस्टिवल में प्रतिष्ठित गोल्डन पीकॉक अवॉर्ड के लिए विभिन्न देशों की 15 फिल्मों के बीच मुकाबला होगा।

बता दें कि जिन 15 फिल्मों के बीच मुकाबला होगा, उनमें पुर्तगाल, डेनमार्क, बुल्गारिया, ईरान, पोलैंड, स्पेन, अफगानिस्तान, ताइवान के साथ-साथ भारत की तीन फ़िल्में कृपाल कलीता की ब्रिज, सिद्धार्थ त्रिपाठी की द डॉग एंड हिज़ मैन और गणेश विनायकन की Thaen शामिल हैं।

साथ ही साथ फेस्टिवल के इंडियन पैनोरमा सेक्शन में कुल 23 फीचर और 20 नॉन फीचर फ़िल्मों का भी प्रदर्शन किया जायेगा। इसमें बॉलीवुड के दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म छिछोरे, तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर की फिल्म सांड की आंख से इस सेक्शन की ओपनिंग होगी।

इस बार नौ दक्षिण भारतीय और छह मराठी फ़िल्मों को दिखाया जायेगी। दक्षिण भारतीय फ़िल्मों में छह फीचर, दो मुख्य धारा की और एक नॉन फीचर फ़िल्म होगी। वहीं, मराठी फ़िल्मों में तीन-तीन फीचर और नॉन फीचर फ़िल्में होंगी। आपको बता दें कि इस फेस्टिवल में बेस्ट फिल्मों को 40 लाख रुपये का नगद इनाम दिया जायेगा।

इसके अलावा बेस्ट निर्देशक केटेगरी में 15 लाख रुपये नगद, सिल्वर पीकॉक और सर्टिफिकेट दिया जाता है। बेस्ट एक्टर मेल और फीमेल को 10 लाख रुपये नगद, सिल्वर पीकॉक और सर्टिफिकेट मिलता है। स्पेशल ज्यूरी अवॉर्ड भी दिया जाता है, जिसके अंतर्गत 15 लाख रुपये नगद और प्रमाण-पत्र दिया जाता है।

पहले यह फेस्टिवल 20 नवंबर से 28 नवंबर, 2020 तक आयोजित होने वाला था। लेकिन कोरोना काल की वजह से इसकी तारीख टाल कर 16 जनवरी से लेकर 24 जनवरी तक कर दिया गया।

विज्ञापन