भारत और इंडोनेशिया ने द्विपक्षीय रक्षा सहयोग बढ़ाने पर सहमति जताई

0
448
भारत और इंडोनेशिया के रक्षामंत्री

नई दिल्लीः भारत और इंडोनेशिया गणराज्य के रक्षा मंत्रियों के बीच संवाद हुआ। भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया। वहीं इंडोनेशियाई प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व इस देश के रक्षा मंत्री जनरल प्रबोवो सुबिआंतो ने किया, जो दोनों समुद्री पड़ोसी देशों के पारस्‍परिक संबंधों को मजबूत करने के लिए फि‍लहाल भारत आए हुए हैं।

वार्तालाप के दौरान रक्षा मंत्री ने गहन राजनीतिक संवाद, आर्थिक एवं व्यापार संबंधों और सांस्कृतिक एवं आपसी जन संवाद की परंपरा के साथ दोनों देशों के बीच पारस्परिक दृष्टि से लाभप्रद सहभागिता के लंबे इतिहास को दोहराया।

राजनाथ सिंह ने सैन्य स्‍तर की पारस्‍परिक वार्ताओं पर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि भारत और इंडोनेशिया के बीच हाल के वर्षों में रक्षा सहयोग में उल्‍लेखनीय वृद्धि हुई है, जो दोनों पक्षों के बीच ‘व्यापक सामरिक साझेदारी’ के अनुरूप है। दोनों ही मंत्रि‍यों ने आपसी सहमति वाले क्षेत्रों में द्विपक्षीय रक्षा सहयोग को और भी अधिक बढ़ाने पर रजामंदी व्‍यक्‍त की।

दोनों ही देशों द्वारा रक्षा उद्योगों और रक्षा प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में पारस्‍परिक सहयोग के संभावित क्षेत्रों की भी पहचान की गई। दोनों ही मंत्रियों ने इन क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग को और भी अधिक मजबूत करने एवं इसे प्रदेय वस्‍तुओं या उत्‍पादों के अगले स्तर पर ले जाने की प्रतिबद्धता व्‍यक्‍त की। यह बैठक दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सहयोग को और भी अधिक बढ़ाने एवं इसके दायरे को व्यापक बनाने की प्रतिबद्धता के साथ सकारात्मक माहौल में संपन्‍न हुई।

चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ एवं सैन्य कार्य विभाग के सचिव जनरल बिपिन रावत, थल सेनाध्यक्ष जनरल एम एम नरवाने, नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह, वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया और रक्षा सचिव डॉ. अजय कुमार तथा अन्य वरिष्ठ असैन्‍य एवं सैन्य अधिकारियों ने भी इस द्विपक्षीय बैठक में हिस्सा लिया।

उपर्युक्‍त संवाद के लिए जनरल सुबिआंतो जब पहुंचे, तो उन्‍हें साउथ ब्लॉक के लॉन में औपचारिक गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आयोजन स्थल पर व्यक्तिगत रूप से उनकी अगवानी की। इससे पहले जनरल सुबिआंतो ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का दौरा किया और शहीद वीर जवानों को पुष्पांजलि अर्पित की।

विज्ञापन