‘राज्य में जारी हिंसा के खिलाफ आवाज उठाऊंगा’, बोले- शुभेंदु अधिकारी

0
744

कोलकाताः विधानसभा चुनाव 2021 में नंदीग्राम सीट से ममता बनर्जी को हराने वाले बीजेपी नेता शुभेंदु अधिकारी को सोमवार को बीजेपी ने विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चुना। नेता प्रतिपक्ष चुने जाने पर शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि राज्य में जारी हिंसा के खिलाफ वह आवाज उठाते रहेंगे।

शुभेंदु ने कहा कि मैं राज्य के लोगों की उम्मीदों को पूरा करने के लिए काम करूंगा। मैं इसके सकारात्मक प्रयासों के लिए सरकार की मदद करूंगा, लेकिन राज्य में हो रही हिंसा के खिलाफ अपनी आवाज भी उठाऊंगा। उन्होंने कहा कि मैं विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में पार्टी द्वारा नामित किए जाने से अभिभूत हूं।

मुझ पर विश्वास करने के लिए भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व को बहुत धन्यवाद। मैं बंगाल के लोगों के अधिकारों और हितों की रक्षा के लिए खड़ा रहूंगा। यहां संवाददाताओं को संबोधित करते हुए शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि राज्य में नरसंहार चल रहा है। अनुसूचित जातियों, आदिवासियों और पिछड़े वर्गों को लूटा जा रहा है।

मैं शिष्टाचार और संसदीय के अनुसार विधानसभा के अंदर और बाहर सभी से लड़ूंगा। लोकतंत्र के हित में शांति की आवश्यकता है। लोकतंत्र को स्थापित करना लक्ष्य है।

नेता प्रतिपक्ष चुनाव के लिए सोमवार को महानगर के हेस्टिंग्स कार्यालय में बीजेपी नेताओं की बैठक हुई। इस बैठक में केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद भी मौजूद थे। वहीं बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय, महासचिव भूपेंद्र यादव, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष, मुकुल राॅय समेत नवनिर्वाचित विधायक मौजूद थे। जहां नेता प्रतिपक्ष के तौर पर शुभेंदु अधिकारी के नाम की घोषणा हुई।

नेता प्रतिपक्ष की रेस में मुकुल राॅय और मनोज टिग्गा का भी नाम शामिल था। इस बार पूर्व विधायक दल के नेता मनोज टिग्गा को उपनेता चुना गया है। स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के लिए मुकुल राय नहीं चुने गए। बैठक में मुकुल राॅय ने खुद शुभेंदु अधिकारी के नाम का प्रस्ताव दिया, जिसका 22 विधायकों ने समर्थन किया।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि विपक्ष के नेता को सर्वसम्मति के आधार पर चुना गया। विपक्ष के नेता के रूप में शुवेंदु अधिकारी की भूमिका भारी रही है। उन्होंने ममता बनर्जी को नंदीग्राम विधानसभा क्षेत्र से हराया है।

विज्ञापन