हाईकोर्ट ने गंगासागर मेले को सशर्त मंजूरी दी

0
515

कोलकाताः कलकत्ता हाई कोर्ट ने कोरोना अवधि के दौरान गंगासागर मेले को सशर्त मंजूरी दी है। कोर्ट ने राज्य के मुख्य सचिव और स्वास्थ्य अधिकारी की रिपोर्ट पर संतुष्टी जाहिर करते हुए यह मंजूरी दी है। इसी रिपोर्ट के आधार पर सशर्त स्न्नान की अनुमति दी गई है। हाईकोर्ट के इस फैसले के बाद सागर तीर्थयात्रियों में खुशी की लहर है।

बीते 4 जनवरी को गंगा सागर मेले को लेकर अजय दे नामक एक व्यक्ति ने कलकत्ता हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की थी। उन्होंने मांग की है कि कोरोना महामारी के चलते गंगासागर मेले को कंटेनमेंट जोन में घोषित किया जाए और भीड़ नियंत्रण करने के लिए दिशानिर्देश जारी किए जाए। इस मामले पर सुनवाई करते हुए बीते गुरुवार को चिंताजनक टिप्पणी की थी।

मुख्य न्यायाधीश टीबी राधाकृष्णन की खंडपीठ में इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा था कि मानव जीवन पहले, विश्वास बाद में। हम स्वास्थ्य उपायों को लेकर चिंतित हैं। कोरोना वायरस मुंह और नाक से फैल रहा है। ऐसे में जब लोग एक साथ स्नान करेंगे तो नाक और मुंह से बूंदें आसानी से पानी में घुल जाएंगी।

इसके परिणाणस्वरूप कई लोग एक ही समय में संक्रमित हो सकते हैं। इसकी चिंता है। ऐसे में कोर्ट ने राज्य सरकार को इस संबंध में एक हलफनामा जमा देने का निर्देश दिया था। कोर्ट ने कहा था कि हलफनामे में चिकित्सकों की सलाह का भी उल्लेख होना चाहिए।

जैसा कि राज्य के मुख्य सचिव और स्वास्थ्य निदेशक की रिपोर्ट में कहा गया है कि सागर का पानी बह रहा है, ऐसे में ड्रॉप्लेट के माध्यम से कोरोना संक्रमण की संभावना बहुत कम है। कलकत्ता हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की खंडपीठ ने राज्य सरकार की उक्त रिपोर्ट पर संतुष्टी जाहिर की है। जिसके बाद कोर्ट ने गंगासागर मेले को सशर्त मंजूरी दी।

क्या हैं शर्तेंः कलकत्ता हाईकोर्ट ने कहा कि ई-स्नान पर अधिक जोर दिया जाना चाहिए। सागर में पहुंचने के बाद ई-स्न्नान करने वालों को राज्य सरकार को मुफ्त में किट देनी होगी। वहीं जो लोग घर पर रहकर ई-स्न्नान के लिए किट लेना चाहते हैं उनके लिए परिवहन खर्च के अलावा कोई पैसा नहीं लिया जा सकता है।

एक साथ अतिरिक्त तीर्थयात्री पानी में प्रवेश ना करें यह ध्यान देना होगा। इसके अलावा लोग कोरोना के नियमों का पालन कर रहे हैं या नहीं यह भी ध्यान देना होगा। कोरोना स्थिति में गंगासागर मेले को संभालना अब राज्य सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती है।

विज्ञापन