SC के फैसले से करण जौहर काफी खुश

0
248

नई दिल्ली: चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ ने एक मत से सुनाए फैसले में दो बालिगों के बीच सहमति से बनाए गए समलैंगिक संबंधों को अपराध मानने वाली धारा 377 के प्रावधान को खत्म कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने धारा 377 को मनमाना करार देते हुए व्यक्तिगत चॉइस को सम्मान देने की बात कही।


सुप्रीम कोर्ट के फैसले का समाज के अलग-अलग तबकों ने स्वागत किया है। बॉलिवुड ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर खुशी जाहिर की है। इस सूची में बॉलिवुड के जाने-माने प्रड्यूसर करण जौहर भी शामिल हैं। उन्होंने ट्वीट कर अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा, ‘ऐतिहासिक फैसला, आज मुझे बहुत गर्व है। होमोसेक्शुऐलिटी को अपराध न मानना और 377 को को रद्द करना मानवता और समान अधिकारों की बड़ी जीत है। इस देश को दोबारा सांस लेने का मौका मिला है।’

फैसला सुनाते हुए जजों ने कहा कि संवैधानिक लोकतांत्रिक व्यवस्था में परिवर्तन जरूरी है। जीवन का अधिकार मानवीय अधिकार है। इस अधिकार के बिना बाकी अधिकार औचित्यहीन हैं।

कोर्ट ने अपने फैसले में सेक्शुअल ओरिएंटेशन बायलॉजिकल बताया है। कोर्ट का कहना है कि इस पर किसी भी तरह की रोक संवैधानिक अधिकार का हनन है। किसी भी सामान्य व्यक्ति की तरह एलजीबीटी कम्युनिटी के लोगों को भी उतने ही अधिकार हैं। एक-दूसरे के अधिकारों को सम्मान करना चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट ने धारा 377 को आंशिक तौर पर खत्म करते हुए दो बालिगों के बीच सहमति से समलैंगिक संबंध बनाने को अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया है। कोर्ट ने अपने फैसले में यह भी साफ किया कि धारा 377 के तहत अब बिना सहमति के समलैंगिक संबंध बनाना अपराध होगा, लेकिन सहमति से संबंध अपराध नहीं। कोर्ट ने कहा कि बच्चों और जानवरों से अप्राकृतिक संबंध अब भी अपराध रहेगा।