देबघर में भगदड़, 11 श्रद्धालुओं की मौत

0
669

झाड़खंड के देबघर में भगदड़ के बाद ११ श्रद्धालुओं की मौत की झाबर मिली है. बेलबागन स्तिथ मुर्गा मंदिर के पास भगदड़ के बाद ५० में भी ज़्यादा लोगो की घायल होने का भी खबर मिला है. राज्य सरकार ने पूछताछ के लिए दो हेल्पलाइन नंबर भी जारी किये है. नंबर है  06432-240577और 06432-2232299.

मंदिर के पास सावन के सोमवार होने की वजह से भक्तों की भीड़ उमड़ी थी. बताया जा रहा है कि देवघर के मंदिर से तीन किलोमीटर दूर भगदड़ मची थी. देवघर के एसपी पी मुरगन ने आज तक  से खास बातचीत में कहा, 'घायलों की संख्या बढ़ सकती है.  मंदिर में डेढ़ लाख लोग पहुंचे थे.' देवघर के  विधायक नारायणदास ने कहा कि प्रशासन से कहीं न कहीं चूक हुई है, ये घटना बेहद चिंताजनक है.

पीड़ि‍त भक्त ने बताया कि कतार में लगे श्रद्धालुओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया, जिसके बाद भगदड़ मची. उन्होंने यह भी बताया कि अस्पताल में एक साथ बड़ी संख्या में घायलों के पहुंचने से अस्पताल में अफरातरफरी का माहौल है. कई घायलों को अभी तक प्राथमिक चिकित्सा तक नहीं मिल पाई है.

हालांकि इलाके के डिप्टी कलेक्टर अमित कुमार ने इन आरोपों को खारिज किया है. उन्होंने कहा, 'लाइनों के पास तैनात पुलिसवालों के पास लाठियां नहीं होतीं इसीलिए लाठीचार्ज का तो सवाल ही नहीं होता.' उन्होंने कहा कि मंदिर के गेट सुबह 4 बजे खोले गए थे. श्रद्धालु मंदिर के अंदर पहुंचने की हड़बड़ी में थे और इसी वजह से भगदड़ मची.

देवघर के बीजेपी सांसद निश‍िकांत दुबे ने भगदड़ के लिए अपनी ही सरकार पर हमला बोला और कहा कि वो लंबे समय से सरकार से फंड की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार ने उनकी नहीं  सुनी.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया, 'एक लाख से भी ज्यादा लोग मंदिर में दर्शन के लिए कतार में खड़े थे कि किसी गलतफहमी के कारण अचानक वहां भगदड़ मच गई्.' श्रावण मास के दौरान 30 लाख से भी ज्यादा श्रद्धालु देवघर में प्रसिद्ध बैद्यनाथ मंदिर के दर्शन करने आते हैं. विशेषकर सोमवार के दिन यहां डेढ़ से दो लाख श्रद्धालु पहुंचते हैं। देवघर राजधानी रांची से 300 किलोमीटर दूर है.

विज्ञापन