ऐम्बुलेंस में डॉक्टर की जगह AC मकैनिक, बीच रास्ते में छात्र की मौत

0
1514

कोलकाता, विरभुम निवासी एक छात्र अर्जित दास (16) की ऐम्बुलेंस में ले जाते समय मौत हो गई। हैरानी की बात यह है कि ऐम्बुलेंस में बतौर डॉक्टर बनकर बैठा हुआ शख्स असल में AC सुधारने का मिस्त्री था। छात्र को बर्दवान के एक नर्सिंग होम से ऐम्बुलेंस से कोलकाता के एक निजी अस्पताल में इलाज के लाया जा रहा था।

गौरतलब है कि अर्जित के परिवारवालों ने बर्दवान के नाबाभाट स्थित एक नर्सिंग होम से एक डॉक्टर और एक ऐम्बुलेंस उपलब्ध कराने को कहा था। कोलकाता पहुंचे तो परिवार वालों को पता चला कि ऐम्बुलेंस में अर्जित के साथ बतौर डॉक्टर पहुंचा था वह असल में एक AC मकैनिक है।

विज्ञापन

जिसके बाद मरीज के परिवार वालों ने घटना की शिकायत पूर्व जादवपुर पुलिस थाने में एक शिकायत दर्ज करवाई। शिकायत के बाद पुलिस ने आरोपी शेख सरफराजुद्दीन (25) नकली डॉक्टर और ऐम्बुलेंस ड्राइवर तारा बाबू साह को गिरफ्तार कर लिया।

जानकारी के अनुसार अर्जित को सोमवार से शुरू होने वाली 10वीं कक्षा की परीक्षा के ठीक एक दिन पहले तेज बुखार हो गया। बाद में उसे इलाज के लिए रामपुरहाट स्थित अस्पताल ले जाया गया। जहां से बाद में उसे बर्दवान स्थित अन्नपूर्णा नर्सिंग होम में भर्ती करवाया गया।’

बर्दवान में अर्जित ने सीने में दर्द होने की शिकायत की। फिर अर्जित को कोलकाता के रवींद्रनाथ टैगोर इंटरनैशनल इंस्टिट्यूट फॉर कार्डिऐक साइंसेज (आरटीआईआईसीएस) ले जाने को तैयार हुए। परिवारवालों ने 105 किलोमीटर के सफर को देखते हुए एक ऐम्बुलेंस और एक डॉक्टर उपलब्ध कराने को कहा।

अर्जित के पिता बताते के अनुसार, ‘हम इस बात के लिए भी राजी थे कि ऐम्बुलेंस का खर्च 8, 000 रुपये देना है और डॉक्टर को भी 8 हजार फिस देनी है। जब अर्जित और डॉक्टर के साथ बैठने की मांग की तो ऐम्बुलेंस के ड्राइवर ने हमारी यह मांग नहीं मानी। हमने दूसरी ऐम्बुलेंस की मांग की।’

परिवार वालों को शक तब हुआ जब डॉक्टर की बजाए ड्राइवर ऑक्सिजन सिलिंडर लगाने लगा। अर्जित जब तक रवींद्रनाथ टैगोर इंटरनैशनल इंस्टिट्यूट फॉर कार्डिऐक साइंसेज पहुंचते तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। बात कआरटीआईआईसीएस के डॉक्टरों ने बताया कि उसकी मौत हो चुकी है।

आरोपी सरफराजुद्दीन ने पहले तो पुलिस को बताया कि वह एक एक टेक्निशन है, और अन्नपूर्णा नर्सिंग होम के डॉक्टरों की निगरानी में काम करता है। बाद से पुलिस ने कड़ाई से पुछताछ में बताया कि वह सिर्फ एक AC मकैनिक है। जिसके बाद पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया।