छत्तीसगढ़ः नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में पांच जवान शहीद, 30 घायल, 21 लापता

0
579
फाइल फोटो

रायपुर: छत्तीसगढ़ के नक्सली प्रभावति इलाके बीजापुर और सुकमा जिले के प्रभावित सीमा क्षेत्र में बीते कल सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच जमकर मुठभेड़ हुई। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों के पांच जवान शहीद हो गये जबकि 30 घायल हो गये हैं, जिनका अस्पताल में इलाज जारी है। वहीं बताया जा रहा है कि इस मुठभेड़ में सेना के 21 जवान लापता भी हैं।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मुठभेड़ में कोबरा बटालियन का एक जवान, बस्तरिया बटालियन के दो जवानों और डीआरजी के दो शहीद हो गये हैं। वहीं 30 जवान घायल हैं, उनमें से सात जवानों का रायपुर के अस्पताल में और 23 जवानों का इलाज बीजापुर के अस्पताल में किया गया है।

लापता जवानों को खोजने के लिये आज सुबह से सर्च ऑपरेशन किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि सर्च ऑपरेशन के तहत कोबरा  कमांडो  के एक जवान का शव बरामद किया गया है। इस शव को एयरलिफ्ट कर जगदलपुर भेजा गया है। वहीं ये भी जानकारी सामने आ रही है कि घटना स्थल से एक नक्सली महिला का भी शव बरामद किया गया है।

बस्तर के आईजी पी सुंदरराज ने जानकारी दी है कि शुरुआती सूचना के आधार पर कम से कम नौ नक्सली मारे गए हैं और 15 के करीब घायल हैं। उन्होंने  कहा कि हमारे हिसाब से वहां 250 नक्सली मौजूद थे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस घटना पर दुख जताते हुए कहा, मेरी संवेदनाएं छत्तीसगढ़ में माओवादियों से लड़ते हुए शहीद होने वाले जवानों के परिवारों के साथ हैं।

वीर शहीदों के बलिदान को कभी नहीं भुलाया जा सकेगा। घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना है। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया, शहीद जवानों को मेरा नमन है। देश उनके बलिदान को कभी नहीं भूलेगा। अमित शाह ने कहा कि शहीद जवानों के परिवारों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं। शांति और विकास के दुश्मनों के खिलाफ हमारी जंग जारी रहेगी।

छ्त्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दुख जाहिर करते हुए लिखा, सुरक्षा बलों की शहादत व्यर्थ नहीं जायेगी। हमारे जवानों ने शौर्य का परिचय देते हुए नक्सलियों को भी भारी नुकसान पहुंचाया है। नक्सलियों के विरूद्ध सुरक्षा बल और भी तेजी से अभियान चलायेंगे।

विज्ञापन