दिल्ली की स्थिति के लिए केंद्र सरकार का उदासीन रवैया जिम्मेदार, बोले सुब्रत मुखर्जी

0
455
फाइल फोटो

कोलकाताः दिल्ली में बीते कल टैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसक घटना दुखद है। हम चिंतित हैं। इस स्थिति के लिए केंद्र सरकार का असंवेदनशील और उदासीन रवैया जिम्मेदार है। केंद्र सरकार ने किसानों की सलाह के बिना कानून लाया है। इन कानूनों को तुरंत रद्द करना चाहिए। राजधानी दिल्ली में बीते कल हुई हिंसक घटना पर तृणमूल कांग्रेस के राज्य मंत्री सुब्रत मुखर्जी ने ये बाते कही।

बुधवार को तृणमूल भवन में संवाददाताओं से मुखातिब होते हुए सुब्रत मुखर्जी ने कहा कि किसान दिल्ली की सड़कों पर इतने लंबे समय से विरोध कर रहे हैं। सब कुछ शांत था। कहीं भी कोई अशांति, विरोध या हिंसा नहीं हुई। इसी बीच बीते कल की किसानों की रैली में हुई घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। इस पर तुरंत विचार करना संभव नहीं है। पूरी जांच की आवश्यकता है। बीते कल की घटना में 100 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हुए हैं।

सुब्रत मुखर्जी ने कहा कि अभी तक दिल्ली पुलिस ने हिंसा के सिलसिले में 22 एफआईआर दर्ज किया है। कृषि कानूनों को लेकर केंद्र पर निशाना साधने के अलावा सुब्रत मुखर्जी ने दावा किया कि राज्य में दुआरे सरकार की योजना सफल हुई है। चार चरणों में लगे 25 हजार से अधिक शिविरों में 2 करोड़ 55 लाख लोग आए। 75 प्रतिशत काम पूरा हो गया है। वहीं 74 लाख 26 हजार लोगों ने स्वास्थ्य साथी कार्ड बनवाया है। 13 लाख 39 हजार लोगों ने खाद्य साथी का लाभ लिया है।

वहीं बीते कल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी इसके लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा था कि सरकार का असंवेदनशील और उदासीन रवैया इसके लिए जिम्मेदार है। मुख्यमंत्री ने ट्वीट करते हुए कहा था कि पहले, इन कानूनों को किसानों को विश्वास में लिए बिना पारित किया गया था और फिर पूरे भारत में और पिछले 2 महीनों से दिल्ली के पास डेरा डाले हुए किसानों के विरोध के बावजूद, वे उनसे निपटने में बेहद लापरवाह हैं।

केंद्र को किसानों के साथ जुड़ना चाहिए और कानूनों को निरस्त करना चाहिए। सीएम ने कहा था कि दिल्ली की सड़कों पर होने वाली चिंताजनक और दर्दनाक घटनाओं से बुरी तरह परेशान हूं। केंद्र सरकार के असंवेदनशील रवैये और हमारे किसान भाइयों और बहनों के प्रति उदासीनता को इस स्थिति के लिए दोषी ठहराया जाना चाहिए।

वहीं तृणमूल कांग्रेस की सांसद नुसरत जहां ने किसानों पर पुलिस द्वारा किए जा रहे लाठी चार्ज का एक वीडियो ट्वीट करते हुए कहा था कि गणतंत्र दिवस पर यह सब देखकर मेरा दिल टूट गया! मोदी सरकार ने हमारे किसान भाइयों और बहनों पर ऐसे क्रूर हमले किए हैं जो पूरे देश को खिलाने के लिए पूरे साल अथक परिश्रम करते हैं! आज पूरी दुनिया हमारी तरफ देख रही है, इस पर रोक लगनी ही चाहिए!

विज्ञापन