बीजेपी प्रतिनिधि मंडल पहुंचा राज्यपाल के पास, की सीबीआई जांच की मांग

0
452

कोलकाताः मनीष शुक्ला हत्याकांड को लेकर मनीष के पिता समेत बीजेपी का एक प्रतिनिधि मंडल सोमवार को राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मिलने पहुंचा। मनीष शुक्ला के पिता ने राज्यपाल से सीबीआई जांच कराने की मांग की है। महानगर के एनआरएस अस्पताल में मनीष शुक्ला का पोस्टमार्टम किया गया।

शाम 6 बजे शव परिवार को सौंपा गया। पुलिस की तरफ से कहा गया कि सियालदह फ्लाईओवर एवं बी.टी रोड होते हुए शव बैरकपुर जाएगा। लेकिन बीजेपी नेतृत्व ने इसका विरोध किया। बीजेपी ने दावा किया कि वे शव को राजभवन लेकर जाएंगे। पुलिस द्वारा अनुमति नहीं मिलने के बावजूद बीजेपी नेतृत्व शव एन.एस बनर्जी रोड से होते हुए राजभवन की ओर बढ़ा। लेकिन रास्ता जाम होने के नाते शव की गाड़ी बीच-बीच में रुकती रही।

इसी बीच एलीट सिनेमा के पास पुलिस ने बैरिकेड कर दिया। यहां पुलिस के साथ बीजेपी नेताओं की कहा सुनी हो गई। बीजेपी नेत्री लाॅकेट चटर्जी ने आरोप लगाया कि जान बूझकर पुलिस ने रास्ते को जाम किया। खाली बस के जरिए पुलिस रास्ते को जाम की। इस समय कोई विशेष जाम नहीं होता है। वे समझे थे कि हम चले जाएंगे। इस प्रकार की गंदी राजनीति करने से कुछ नहीं होगा।

इसी दौरान पुलिस ने कहा कि धारा 144 जारी होने के कारण शव को राजभवन में ले जाना संभव नहीं होगा। हालांकि, चार लोग जा सकते हैं। भाजपा नेतृत्व सहमत हो गया। मारे गए भाजपा नेता के पिता, कैलाश विजयवर्गीय, लॉकेट चटर्जी और अर्जुन सिंह राज्यपाल से मिले। मनीष शुक्ला के पिता ने सीबीआई जांच की मांग की।

गौरतलब हो कि रविवार शाम टीटागढ़ में मनीष शुक्ला की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मनीष पार्टी कार्यालय के सामने बैठे थे। इसी दौरान बाइक से आए कुछ बदमाशों ने मनीष शुक्ला को गोलियों से छल्ली कर दिया। बदमाशों ने मनीष शुक्ला को 5 से 6 गोली मारी। वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश घटना स्थल से फरारा हो गए। गोली मनीष के सिर और सीने पर लगी।

गंभीर अवस्था में उन्हें पहले बैरकपुर के एक अस्पताल में ले जाया गया। यहां से उन्हें कोलकाता के बाईपास स्थित एक प्राइवेट अस्पताल में रेफर कर दिया गया। कुछ घंटों तक जिन्दगी और मौत से जंग लड़ने के बाद मनीष शुक्ला ने दम तोड़ दिया।

विज्ञापन