बिहार में किन्नरों का तांडव, लॉकडाउन के विरोध में पुलिस पर किया हमला

0
367
फाइल फोटो

पटना: कोरोना के संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिये बिहार में इन दिनों लॉकडाउन जारी है। लेकिन इन सबके बीच सोमवार को गोपालगंज में किन्नरों ने जमकर बवाल किया और पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया। हंगामा मचा रहे किन्नरों ने कहा कि लॉकडाउन के कारण हमारा नाचना गाना पूरी तरह से बंद है।

नाच गाना बंद होने से हमें रोजी रोटी की समस्या हो रही है। किन्नरों का ऐसा रूप देखकर स्थानीय लोग भी वहां से जान बचाकर भाग गये। इस घटना की सूचना मिलते ही जब पुलिस अधिकारी वहां पहुंचे तो उन्होंने उन पर भी हमला किया। यहां तक की रास्ते से गुजर रही पुलिस की गाड़ियों को भी किन्नरों ने अपना निशाना बनाया।

इस घटना के दौरान अधिकारी को बचाने पहुंचा सैप का एक जवान भी घायल हो गया। घायल सैप जवान को स्थानीय लोगों ने वहां के अस्पताल में भर्ती करवाया। इसके बाद हंगामा कर रगे किन्नर कलेक्ट्रेट गेट की ओर मुड़े। जैसे ही इस पूरी घटना की जानकारी पुलिस को मिली, उन्होंने कलेक्ट्रेट गेट को बंद कर दिया।

कलेक्ट्रेट गेट के बाहर की किन्नर धरने पर बैठ गये। मौके पर पहुंचे एसडीओ उपेंद्र पाल और एसडीपीओ नरेश पासवान ने किन्नारों को समझा बुझाकर शांत करा दिया। बीते रविवार को कैमूर जिले में लॉकडाउन के दौरान नियमों का उल्लघंन करके दुकान खोलने वाले 9 दुकानदारों के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाही करते हुए इन दुकानों को सील कर दिया है।

साथ ही पुलिस ने कड़े शब्दों में दुकानदारों को चेतावनी भी दी है। गौरतलब है कि बिहार में 15 मई तक संपूर्ण लॉकडाउन जारी है। जरूरी सामान की दुकानों में दूध की दुकानें, राशन की दुकानें, फल-सब्जी की दुकानें और मांस-मछली की दुकानों को केवल सुबह 7 से 11 बजे तक ही खोलने की अनुमति दी गई है। जबकि दवाई की दुकानें और अस्पतालों पर किसी तरह की कोई पाबंदी नही है।

विज्ञापन