पता चल जाएगा कौन अपना और कौन बाहरी, ‘चुनाव लडुंगा तो डोमजूर से’, बोले राजीव

0
1410
फाइल फोटो

हावड़ाः विधानसभा चुनाव के पहले राज्य की सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस में भगदड़ मची हुई है। एक के बाद एक नेता तृणमूल कांग्रेस से नाता तोड़ रहे हैं। तृणमूल से बीजेपी में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी लगातार मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी समेत तृणमूल कांग्रेस के तमाम नेताओं पर वार पे वार किए जा रहे हैं।

इसी बीच हाल ही में हावड़ा जिले के डोमजूर के विधायक और राज्य के वनमंत्री राजीव बनर्जी ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया। इस्तीफे के बाद राजीव बनर्जी के भाजपा में शामिल होने की चर्चा तेज हो गई है। इसी बीच मंगलवार को राजीव बनर्जी ने संकेत दिया कि यदि वह चुनाव लड़ते हैं तो डोमजूर से ही खड़ा होंगे।

राज्य के पूर्व मंत्री राजीव बनर्जी मंगलवार को गणतंत्र दिवस के अवसर पर डोमजूर के एक समारोह में शामिल हुए थे। यहां समारोह को संबोधित करते हुए राजीव बनर्जी ने कहा कि मैं गणतंत्र दिवस पर कह रहा हूं, अगर चुनाव लड़ता हूं तो डोमजूर से ही लडुंगा। क्योंकि मेरा यहां के लोगों के साथ पूराना रिश्ता है।

लेकिन सवाल यह है कि राजीव बनर्जी किस पार्टी के लिए खड़े होंगे? तृणमूल या भाजपा? राजीव ने अभी मंत्रालय छोड़ा है। हालांकि, वह अभी भी आधिकारिक तौर पर तृणमूल में ही हैं। राजीव ने 22 जनवरी को राज्य मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया। इसके तुरंत बाद, श्रीरामपुर के सांसद कल्याण बंद्योपाध्याय ने राजीव को डोमजूर से चुनाव लड़ने की चुनौती दी। बता दें कि डोमजूर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र श्रीरामपुर लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है।

गणतंत्र दिवस के अवसर पर डोमजूर में आयोजित समारोह में पहुंचे राजीव बनर्जी ने कहा कि डोमजूर के लोगों के साथ मेरा पुराना रिश्ता है। आने वाले समय में ही डोमजूर के लोग समझा देंगे कि कौन उनका है और कौन बाहरी लोग हैं। आत्मविश्वास से भरे राजीव बनर्जी ने कहा कि मेरा लोगों के साथ जो संबंध है, मैं डोमजूर के बाहर बंगाल में कहीं भी चुनाव नहीं लडुंगा। मैं डोमजूर से ही चुनाव लडुंगा।

हालांकि राजीव बनर्जी ने अभी तक विधायक या तृणमूल सदस्य के रूप में इस्तीफा नहीं दिया है, लेकिन यह समय की बात है। इस महीने के अंत में अमित शाह बंगाल दौरे पर आ रहे हैं। उनकी बंगाल यात्रा के दौरान हावड़ा में भाजपा की एक बड़ी सभा होने वाली है। कहा जा रहा है कि यहां कई बड़े नेता बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। हालांकि राजीव बनर्जी ने अभी तक इस पर मुंह नहीं खोला है।

वहीं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष और शुभेंदु अधिकारी समेत तमाम भाजपा नेताओं ने पूर्व वन मंत्री का भाजपा में स्वागत किया है। हालांकि, डोमजूर के विधायक ने अभी तक यह स्पष्ट नहीं किया है कि वह भाजपा में शामिल होंगे या नहीं। राजीव क्या करते हैं यह देखने के लिए राजनीतिक हलकों में इंतजार है।

विज्ञापन