बिहार के गोपालगंज में 264 करोड़ में बना पुल महीनेभर भी नहीं चला

0
771

पटनाः बिहार के गोपालगंज में 264 करोड़ रुपये में बना पुल एक महीने भी नहीं चला। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ही पुल का उद्घाटन किया था। सुशासन का दावा करने वाली नीतीश सरकार के दावों की पोल इस पुल के ढहने से खुल गई है। ये पुल गोपालगंज को चंपारण से और इसके साथ तिरहुत के कई जिलों को जोड़ता था।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पिछले महीने की 16 तारीख को राजधानी पटना से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पुल का उद्घाटन किया था। स्थानीय लोगों का कहना है कि बारिश के पानी के अधिक दबाव के कारण पुल टूट गया। इस प्रकार पुल के टूटने से कई जिलों का संपर्क भी टूट गया है।

इसी बीच अब विरोधी नीतीश सरकार को घेरना शुरू कर दिए हैं। आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने पुल के ढहने को लेकर नीतीश सरकार पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि यह पुल इसलिए टूटा है क्योंकि इसमें भ्रष्टाचार हुआ है। तेजस्वी ने एक चैनल से बात करते हुए कहा कि इस पुल का पैसा अफसरों से वसूल किया जाना चाहिए।

ऐसे में अब पुल निर्माण में लापरवाही को लेकर जांच की मांग उठने लगी है। बिहार विधानसभा में नेत प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इसको लेकर नीतीश सरकार को घेरा है। आरजेडी नेता ने ट्वीट करते हुए कहा कि 263 करोड़ से 8 साल में बना लेकिन मात्र 29 दिन में ढह गया पुल। बिहार में चारों तरफ लूट ही लूट मची है।

विज्ञापन